Stories

Sachin - My Hero
The Good King
The Park
Pigeon and the Koyal
A Happy Day
Akbar Met Birbal
The Golden Words
Eat your vegetables
Sun God and the Lamp
A Funny Story
My Family
My School
Some Amazing Facts
Children Story-2
Children Story-1
Daffodils - William Wordsworth
Robert Frost

Children Story-2

Once upon a time, there was a hungry fox that was looking for something to eat. He was very hungry. No matter how hard he tried, the fox could not find food. Finally he went to the edge of the forest and searched there for food. Suddenly he caught sight of a big tree with a hole in it.

Inside the hole was a package. The hungry fox immediately thought that there might be food in it, and he became very happy. He jumped into the hole and when he opened the package, he saw there were a lot of food, bread, meat and fruit in it!

An old woodcutter had placed the food in the tree trunk while he cut down trees in the forest. He was going to eat it for his lunch.

The fox happily began to eat. After the fox had finished eating, he felt thirsty and decided to leave the trunk and drink some water from a nearby spring. However, no matter how hard he tried, he could not get out of the hole. Do you know why? Yes, the fox had eaten so much food that he became too big to fit through the hole.

The fox was very sad and upset. He told himself, "I wish that I had thought a little before jumping into the hole."

Yes children, this is the result of doing something without thinking about it first.

पेड़ के तने में फसा भुख्खड़ लोमड़ी

एकदा एकदिन एक भूखे लोमड़ी कुछ खाने के लिए ढूंड रहा था.वो बहत ही भूखा था.खाना ढूंड ने में उसने कोई कसर नहीं छोड़ी,पर लोमड़ी को खाना नहीं मिला. अंत में खाना ढूंड ते हुए वह जंगल के किनारे के ओर चला गया.
अचानक उसका नज़र एक बड़े पेड़ की छेद मैं आके रुका.
 
छेद के अंदर एक पोटली था. भूखे लोमड़ी ने तुरंत सोच लिया की उसके अंदर खाना हो सकता हैं. और वह बहत खुस हुआ. वह छेद में कूद गया और जब उसने पोटली खोला, उसने देखा वोहाँ बहत खाना हैं, रोटी,मांस और उस में फल भी हैं ! 
 
एक बूड़हा लकड़हारा पेड़ के तने में खाना रखा था जबकि वह जंगल में पेड़ काटने गया था. ये उसके दोपहर का भोजन करने के लिए था.
 
लोमड़ी ख़ुशी से खाना सुरु किया.लोमड़ी का खाना ख़तम होने के बाद उसे प्यास लगा और उसने तना छोड़ के पास ही के झरने में पानी पिने जाने का फैसला किया.उसने कोई कसर नही छोड़ा ,पर वो छेद से बाहर नहीं आ पाया.क्या आप जानते हो कियूं? जी हाँ,लोमड़ी ने बहत सारा खाना खा लेने से, उस छेद की उपयोज्यता से भी बड़ा हो गया. 
 
लोमड़ी बहुत दुखी और परेशान हो गया था. उसने अपने आप से ही कहा था,"काश मैंने छेद में कूद ने से पहेले थोड़ा सा भी सोचा होता".
 

हाँ बच्चों,बिना पहले सोच के कुछ करने का परिणाम यही होता है।